कर्नल अजय कोठियाल होंगे उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में आप के सीएम पद के उम्मीदवारः केजरीवाल

Share Now

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार सेवानिवृत्त कर्नल अजय कोठियाल होंगे। आज उत्तराखंड दौरे पर पहुंचे आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने यह एलान करते हुए कहा कि हम देवभूमि के लोगों के साथ मिल कर उत्तराखंड को विश्व भर के हिन्दुओं की आध्यात्मिक राजधानी भी बनाएंगे। एक तरफ दिल्ली देश की प्रशासनिक राजधानी होगी और दूसरी तरफ उत्तराखंड हिन्दुओं की आध्यात्मिक राजधानी होगी। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अजय कोठियाल ने कुछ साल पहले आपदा के समय केदारनाथ का पुननिर्माण किया था और अब उन्होंने उत्तराखंड का नवनिर्माण करने का वीड़ा उठाया है। अजय कोठियाल को सीएम उम्मीदवार बनाने का निर्णय आम आदमी पार्टी ने नहीं, उत्तराखंड के लोगों ने लिया है। लोगों का कहना है कि चंद पार्टियों और चंद नेताओं ने मिलकर उत्तराखंड को पूरी तरह से लूट लिया, अब हमें देशभक्त फौजी मुख्यमंत्री चाहिए। वहीं, अजय कोठियाल ने कहा कि हमें सिर्फ छह महीने देकर देखिए, अगर हम सही दिशा में नहीं जा रहे हैं, तो हम दोबारा वोट मांगने नहीं आएंगे।आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज देवभूमि उत्तराखंड का दौरा किया। इस दौरान ‘आप’ संयोजक ने उत्तराखंड की प्रगति और विकास के मद्देनजर दो महत्वपूर्ण घोषणाएं करते हुए कहा कि मैं समझता हूं कि यह दोनों बड़ी घोषणाएं उत्तराखंड के भविष्य और उत्तराखंड के विकास के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित होंगीं। ‘आप’ संयोजक ने पहली बड़ी घोषणा का एलान करते हुए कहा कि मैं बेहद गर्व और फक्र के साथ आज यह एलान कर रहा हूं कि आने वाले विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार कर्नल अजय कोठियाल होंगे। कुछ दिन पहले हमारी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया देवभूमि आए थे। उस दौरान उन्होंने एलान किया था कि हम मुख्यमंत्री उम्मीदवार के बारे में जनता से पूछेंगे कि जनता की क्या राय है? मुख्यमंत्री उम्मीदवार का नाम तय करने के लिए हमने किस्म-किस्म के सर्वे किए। किस्म-किस्म तरीकों से देवभूमि की जनता से पूछा कि आम आदमी पार्टी को अपना सीएम उम्मीदवार किसे बनाना चाहिए? क्या कर्नल अजय कोठियाल को सीएम उम्मीदवार बनाना चाहिए? ‘आप’ संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सीएम उम्मीदवार को लेकर देवभूमि के लोगों का बहुत ही जबरदस्त रिस्पॉन्स आया। लोगों ने कहा कि जब से उत्तराखंड बना है, तब से लेकर आज तक इन चंद पार्टियों और इन चंद नेताओं ने मिलकर उत्तराखंड को पूरी तरह से लूट लिया। उत्तराखंड को लूटने में इन नेताओं ने कोई कसर नहीं छोड़ी। लोगों ने कहा कि अब हमें नेता नहीं चाहिए। बहुत हो गए नेता और बहुत हो गई पार्टियां। अब हमें एक देशभक्त फौजी चाहिए। हमें ऐसा शख्स चाहिए, ऐसा देशभक्त चाहिए, ऐसा व्यक्ति चाहिए, जो अपना घर भरने के बजाए उत्तराखंड के लोगों की सोचे, उत्तराखंड के विकास के बारे में सोचे और मां भारती के बारे में सोचें। बहुत बड़े स्तर पर लोगों ने कहा कि अब इन नेताओं के भरोसे उत्तराखंड आगे नहीं बढ़ सकत इन पार्टियों के भरोसे उत्तराखंड आगे नहीं बढ़ सकता। हमें अजय कोठियाल अपना सीएम चाहिए। अजय कोठियाल को मुख्यमंत्री उम्मीदवार बनाने का यह निर्णय आम आदमी पार्टी ने नहीं लिया है, बल्कि यह निर्णय उत्तराखंड के लोगों ने लिया है कि अजय कोठियाल को आम आदमी पार्टी का सीएम उम्मीदवार बनाया जाए।  वहीं, आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री उम्मीदवार सेवानिवृत्त कर्नल अजय कोठियाल ने कहा कि आज मेरे लिए बहुत ही गर्व और सम्मान का दिन है कि अरविंद केजरीवाल खुद मुझे उत्तराखंड के नवनिर्माण की जिम्मेदारी दे रहे हैं। मेरे लिए यह काम आसान नहीं है। 20 साल पहले जब उत्तराखंड उत्तर प्रदेश से अलग हुआ था, तब सबकी एक कल्पना थी। उत्तराखंड के आंदोलनकारियों और महिलाओं ने उत्तराखंड को बनाने के लिए एक बहुत बड़ा आंदोलन किया था। अगर उस सोच को आगे लाना है, तो कोई न कोई तरीका होगा। तब मैंने अरविंद केजरीवाल के काम करने के तरीके और दिल्ली सरकार के गवर्नेंस मॉडल देखा कि कैसे केंद्र शासित प्रदेश होने के बावजूद, दिल्ली सरकार ने रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य के प्रभावशाली मॉडल बनाया है। दिल्ली मॉडल को देख कर मुझे समझ में आया कि अगर दिल्ली मॉडल को उत्तराखंड में प्रयोग किया जाए, तो काफी विकास हो सकता है। उत्तराखंड में भी उतनी ही ताकत और जज्बा है कि हम सब कर सकते हैं। अजय कोठियाल ने आगे कहा कि हिमालय का सबसे बड़ा भाग उत्तराखंड में है। यहां पर बहुत से देवी-देवताओं के स्थान हैं। यहां लोग अपने को शांति देने के लिए आते हैं। अगर उत्तराखंड हिंदुओं की अध्यात्मिक राजधानी बनेगी, तो बहुत फर्क पड़ेगा। आज चारधाम की यात्रा से हम दुनिया भर के बहुत सारे लोगों के विश्वास और उनकी भावनाओं को सकून दिलवाते हैं। साथ ही, स्थानीय लोगों को विभिन्न प्रकार के रोजगार मिलते हैं। चारधाम यात्रा की जगह अगर उत्तराखंड आध्यात्मिक राजधानी बन गई, तो यहां पर भी अलग तरह की भावनाएं आनी शुरू हो जाएंगी। आध्यात्मिक टूरिज्म जो उत्तराखंड से निकलकर केरल में प्रसिद्ध हो गया, वह सारा उत्तराखंड में आ जाएगा और इसकी एक अलग ताकत बन जाएगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!