कांग्रेस नेताओं को तो आपस में ही हाथ से हाथ जोड़ने की जरूरतः कैंथोला

Share Now

देहरादून। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता बिपिन कैंथोला ने कांग्रेस की हाथ से हाथ जोड़ो यात्रा पर चुटकी लेते हुए कहा, उनके नेताओं को तो आपस में ही हाथ से हाथ जोड़ने की जरूरत है क्योंकि जनता तो उनसे पहले ही लगातार कई चुनावों में हाथ जोड़ चुकी है। प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में में विपिन कैंथोला मीडिया ने कहा, सोशल मीडिया प्लेटफार्म में जो एक दूसरे को लेकर भाषाओं की सीमा तक लाँघ जाते हो, जो पिता पुत्र एक दूसरे से प्रश्न करने व जबाब देने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेते हों। जिस पार्टी के नेता एक दूसरे के प्रदर्शन में जाने से कतराते हों, यहां तक कि राष्ट्रीय नेतृत्व तक के लिये गये फैसलों को धता बताने तक भी नही चूकते हों, उस पार्टी का हाथ से हाथ जोडने की बात करना हास्यपद है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की जनता कांग्रेस के शासन काल मे किये गए जनविरोधी कार्यों को भलि भांति जानती है, और यह भी जानती है कि उत्तराखंड में कांग्रेस के शासन काल मे किस तरह से भय भर्ष्टाचार पूरे प्रदेश में व्याप्त था, माफिया राज मुख्यमंत्री सचिवालय में अपनी दखल रखता था, अपने चहेतों को लाभ दिलाने के लिए जनता के हितों को दरकिनार करके चहेतों को लाभ दिलाने का काम किया जाता था, कांग्रेस शासन काल के इस वातावरण को प्रदेश वासी भूले नही है।
कैंथोला ने तंज कसते हुए कहा कि अब कांग्रेस की इस प्रकार की यात्रा महज केवल एक नोटँकी के अलावा कुछ नही है । उन्होंने ने कहा कि उत्तराखंड की जनता के बीच में पहले कांग्रेस अपने आला नेताओं के दिल से दिल तो मिलाने का शुभ कार्य करने का काम तो करे तब जनता के बीच हाथ जोड़ने की बात करे, उन्होंने कहा की उत्तराखंड की जनता अब काग्रेस की इस प्रकार यात्रा के छलावे में आने वाली नही है, क्योकि कांग्रेस के शाशन काल के कुकृत्यों को देखकर उत्तराखंड की जनता ने पहले 2017 के विधानसभा चुनाव में और एक बार फिर से 2022 के विधानसभा के चुनाव में कांग्रेस नेताओं से व कांग्रेस पार्टी दोनों से हाथ जोड़कर नमस्कार करके सत्ता से विदा कर चुकी है। इसी तरह आने वाले स्थानीय निकाय चुनाव हो या 2024 का लोकसभा चुनाव हो, उत्तराखंड की जनता फिर से कांग्रेस पार्टी और उनके नेताओं को दोनों हाथ जोड़कर विदा करने का मन बना चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!