दशको बाद दिखी विशालकाय उड़न गिलहरी – घायल अवस्था मे मिला लुप्तप्राय जीव

Share Now


नंदादेवी राष्ट्रीय पार्क के अधिकारियों नें उस वक्त सुखद आश्चर्य व्यक्त किया जब उन्हे दशकों बाद रेंज कार्यालय जोशीमठ में एक लुप्तप्राय दुर्लभ भारतीय विशालकाय उड़न गिलहरी (इंडियन जाइंट फ्लाईंग स्किवरेल) घायल अवस्था में देखने को मिली,जिसे बद्रीनाथ नेशनल हाई वे से जोगी धारा छेत्र से मॉर्निंग वाक को निकले एक स्थानीय वन्य जीव प्रेमी द्वारा सूचना देने पर पार्क कर्मियों द्वारा इस उड़न गिलहरी को अपने उपचार हेतु पार्क के रेंज कार्यालय ले आया गया |

लुप्त प्राय उड़ान गिलहरी – चमोली मे घायल अवसयहा मे मिली

दरअसल इस जीव को बन्यजीव अधिनियम 1972के तहत संरक्षित श्रेणी में रखा गया है,यह केंटुरिडे परिवार के कृंतक की एक प्रजाति है, यह दुर्लभ जीव भारत सहित चीन,इंडोनेशिया,म्याँमार,श्री लंका,ताईवान और थाईलैंड जैसे अन्य देशों में पाया जाता है,नंदादेवी नेशनल पार्क के सूत्रों नें बताया कि यह गर्म वातावरण का प्राणी है जो समुद्रतल से 1000फिट की ऊँचाई के आसपास मौजूद शंकुधारी वनों से घिरे प्राकृतिक आवासों में रहते है, और यह इन्डियन जाइंट फ्लाईंग स्किवरेल बाहर से किसी कारण वश ही जोशीमठ की सीमा में पहुँचा है और इसका अभी उपचार किया जा रहा है,ठीक होने पर इस दुर्लभ प्राणी को उसके प्राकृतिक आवास की और सुरक्षित छोड़ दिया जायेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!