आत्महत्या की चेतावनी : चार धाम यात्रा , परिवहन उधोग को एनपीए से राहत दे सरकार

Share Now

कोरोना की दूसरी लहार को सिस्टम की नाकामी करार देते हुए परिवहन से जुड़े कारोबारियों ने चार धाम यात्रा स्थगित होने पर भुखमरी से बचने के लिए आत्महत्या की चेतावनी दी है। लगातर दूसरी बार यात्रा बंद होने के बाद परिवहन उद्योग को राहत देने की मांग करते हुए पदाधिकारियो ने बताया कि इस बार यात्रा की उम्मीद पर उन्होंने बसों का इन्सुरेंस और फिटनेस पर लाखों रु खर्च कर दिए जो अब यात्रा बंद होने से बेकार हो गए है। उन्होंने मांग की है कि जिस तरह सरकार उद्योगों को एनपीए माफ करती है, उसी तर्ज पर उन्हें भी राहत दी जाय।

अमित कंडियाल ऋषिकेश

  परिवहन व्यवसायी बोले- मुआवजा नही मिला तो आत्महत्या  का बचेगा रास्ता

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने चारधाम यात्रा स्थगित करने का फैसला लिया है। यात्रा स्थगित होने के बाद परिवहन व्यवसायियों के सामने रोजी रोटी का बड़ा संकट मंडराने लगा है। यात्रा स्थगित होने से सड़क पर आए परिवहन व्यवसायियों का सरकार के खिलाफ आक्रोश बढ़ गया है। 

लगातार कर्ज के बोझ तले दब रहे परिवहन व्यवसायियों ने सरकार से बस संचालकों को 5 लाख और चालक – परिचालक को एक – एक लाख का मुआवजा देने की मांग की है। चेतावनी दी यदि सरकार ने मुआवजा नहीं दिया तो परिवहन व्यवसाय आत्महत्या करने के लिए मजबूर होंगे। 

पिछले 2 साल से लगातार कोविड-19 की वजह से चारधाम यात्रा स्थगित हो रही है। ऐसे में परिवहन व्यवसायियों के सामने रोजी – रोटी का संकट खड़ा हो गया है। हजारों रुपए का इंश्योरेंस और लाखों रुपए के फिटनेस कराने के बाद भी बसों के पहिए थमे हुए हैं। ऐसे में कर्ज के साथ – साथ अब परिवहन व्यवसाई मानसिक व्यथा भी झेलने को मजबूर हो गए हैं। चारधाम यात्रा स्थगित करने की घोषणा के बाद परिवहन व्यवसायियों के अंदर सरकार के खिलाफ आक्रोश देखा जा रहा है।

उत्तराखंड परिवहन महासंघ के अध्यक्ष सुधीर रॉय ने बताया कि अब सरकार को परिवहन व्यवसाई की रीढ़ बचाने के लिए मुआवजा देने की जरूरत है। उन्होंने सरकार से बस संचालकों को 5 लाख और चालक – परिचालक को एक – एक लाख का मुआवजा देने की मांग की है। चेतावनी दी यदि सरकार ने मुआवजा नहीं दिया तो परिवहन व्यवसाई आत्महत्या करने के लिए मजबूर होंगे।

जितेंद्र नेगी ( अध्यक्ष , TGMO )

सुधीर रॉय ( अध्यक्ष , उत्तराखंड परिवहन महासंघ )

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!