गंगा किनारे से कूड़ा डंपिंग जोन को हटाने की मांग को लेकर अनशन शुरू

Share Now

उत्तरकाशी। वरुणावत की तलहटी में माँ गँगा किनारे तांबाखनी स्थित नियम विरुद्ध बने कूड़ा डंपिंग जोन को स्थानांतरित करने की मांग को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता अमरीकन पुरी ने अपने साथियों सहित अनिश्चितकालीन आमरण अनशन शुरू किया।
श्रीदेव सुमन चैक पर किये जा रहे इस आमरण अनशन के दौरान सामाजिक कार्यकर्ता अमरीकन पुरी का कहना है कि जिला प्रशासन द्वारा दिए गए तय समय तक कूड़ा निस्तारण न किए जाने के कारण उन्हे अपने साथियों सहित आमरण अनशन पर बैठना पड़ रहा है। उन्होने कहा कि नगरपालिका स्वयं तो कूड़ा निस्तारण के लिए ठोस समाधान करने में असमर्थ है। जिसके चलते नगर पालिका द्वारा कूड़ा निस्तारण हेतू जीरो वेस्ट नाम की संस्था को पिछले साढ़े तीन वर्ष में लगभग 4 करोड़ रूपयों का भुगतान कर किया गया है। उन्होने कहा कि जवाबदेही होने के बावजूद यह संस्था किसी बैठक में नजर नही आती है जबकि नगरपालिका प्रत्येक माह लगभग 9 लाख रूपया कूड़ा निस्तारण के नाम पर इस संस्था को दे रही है।
उन्होने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा है कि नगर पालिका द्वारा कूड़ा निस्तारण के नाम पर लाखों रूपये की मशीनें खरीदी गई है और लाखो रूपये कूड़ा निस्तारण में लगे वाहनों जेसीबी पोकलैंड आदि पर घंटो के हिसाब से खर्च करे जा रहे है। बावजूद इसके आज तक कूड़े की समस्या का समाधान होने की बजाय कूड़े के ढेर बढ़ते ही जा रहे है। उन्होने कहा कि जिला प्रशासन पालिका से सवाल पूछने पर कि क्या यह कूड़ा मां गंगा की तलहटी के ऊपर तंबाखानी में ढेर लगाने की कोई अनुमति उनके पास है? क्या यह एन जी टी के नियमो का उलंघन नहीं है इस पर सभी जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा मौन साध लिया जाता है। उन्होंने कहा कि जब तक तंबाखानी कूड़ा डंप पर पूर्ण प्रतिबंध का आदेश व तंबाखानी में एकत्रित कूड़े को पूरी तरह से हटा कर उस जगह को साफ स्वच्छ नहीं किया जाता तब तक वह और उनके सहयोगियों का श्रीदेव सुमन चैक पर आमरण अनशन जारी रहेगा। जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!