उत्तरकाशी : गंगा विश्व धरोहर घोषित हो- विषय पर संगोष्ठी

Share Now

उत्तरकाशी (चिन्यालीसौड़) राजीव गांधी नवोदय विद्यालय चिन्यालीसौड़ में गंगा विश्व धरोहर घोषित हो विषय पर आयोजित संगोष्ठी में गंगा विश्व धरोहर मंच के संयोजक डाॅ. शम्भू प्रसाद नौटियाल ने छात्रों को जल साक्षरता पर जल गुणवत्ता परीक्षण के नुस्खे सिखाये व कहा कि गंगा विश्व धरोहर मंच का उद्देश्य हमारी राष्ट्रीय नदी गंगा की स्वच्छता व तटों के आस-पास तथा जलीय जैव विविधता संरक्षण की दिशा में लोगों को जागरूक करना है। क्योंकि गंगा में असंख्य जीवों और वनस्पतियों आवास है। साथ ही हमें यह समझना होगा कि गंगा केवल जलधारा ही नहीं अपितु जनजीवन और लोक संस्कृति का अभिन्न अंग और जन-जन की भावनात्मक आस्था का आधार भी है।

प्राचार्य डॉ. विनोद प्रकाश सेमवाल ने राष्ट्रीय नदी गंगा की समृद्धि व स्वच्छता के लिए छोटी नदियों व जलधाराओं के संरक्षण को जरूरी बताया उन्होंने कहा कि गंगा का अस्तित्व उसमें वर्षभर प्रवाहित होने वाली उन तमाम छोटी-छोटी जलधाराओं की वजह से है। गंगा में जगह-जगह अनुपचारित सीवेज, रासायनिक अपशिष्ट और औद्योगिक प्रदूषकों के डंपिंग और बांधों के निर्माण से प्राकृतिक प्रवाह को बाधित करना भी गंगा के अस्तित्व के लिये खतरे हैं। गंगा को प्रदूषण मुक्त रखने के लिए हमें प्लास्टिक की थैलियां, बोतल या अन्य सामग्री नदी तटों में या उनके किनारे नहीं फेंकना चाहिए व मछली मारने के लिए प्रयुक्त होने वाले रसायनों व अनुचित तरीकों पर सरकार को सक्त पाबंदी लगानी चाहिए। खेतों में रासायनिक खाद और कीटनाशकों को रोकने के लिए लोगों को जैविक खेती के लिए प्रेरित करना चहिए। वरिष्ठ अध्यापक व हिमालय प्लांट बैंक के सदस्य चन्द्रपाल सिंह राणा ने कहा कि पुरातन समय से ही गंगा भारतीय समाज की आस्था का केंद्र रहीं हैं।गंगा किनारे हमारे बड़े-बड़े शहर, गांव व सभ्यताओं का विकास हुआ। लेकिन बढ़ते प्रदूषण और उपेक्षा से गंगा नदी की हालत खराब की है। उन्होंने कहा कि आमजन को आगे आकर नदियों, गाड़-गदेरों को प्रदूषण मुक्त रखने के साथ पौधरोपण को बढ़ावा देना चाहिए। ‘गंगा विश्व धरोहर घोषित हो’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में दसवीं कक्षा की छात्रा कुमारी प्रेरणा प्रथम, नवीं कक्षा के छात्र कृष्ण रावत द्वितीय व नवीं कक्षा के ही छात्र रोहन ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। निबंध प्रतियोगिता में ग्यारहवीं के छात्र विपिन कुमार प्रथम, बारहवीं कक्षा की छात्रा कुमारी ज्योति द्वितीय तथा दसवीं कक्षा की छात्रा कुमारी शिवानी ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। इन सभी छात्र-छात्रों को पुरस्कृत किया गया। इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षक रमेश बंटवाण, रुकम चन्द्र रमोला, उदय शंकर नौटियाल, प्रशांत उनियाल, प्रदीप नौटियाल, श्रीमती सोनी खंडूड़ी, श्रीमती वंदना बिजल्वाण सहित अन्य शिक्षक-शिक्षिका व कर्मचारी गण उपस्थिति थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!