उत्तरकाशी : खाया और फैकने की संस्कृति को अब हमें बदलना होग – स्वामी चिदानंद मुनि

Share Now

उत्तरकाशी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नमामि गंगे एवं जल शक्ति मंत्रालय के माध्यम से स्वच्छ भारत की अद्भुत आधारशिला रखी है। स्वच्छ भारत मिशन से सरकारी ही नहीं बल्कि संपूर्ण देश स्वच्छ भारत अभियान से जोड़ दिया हैं। उक्त बात मंगलवार को सौरा – लाटा आश्रम में पहुंचे स्वामी चिदानंद सरस्वती जी महाराज ने पत्रकारों को बताया कि अब पहाड़ों को सुंदर बनाने का समय आ गया है पहाड़ और गंगा जी जब स्वच्छ होगी तो पूरा विश्व हिमालय की ओर आकर्षित होगें इससे पर्यटन को तो बढ़ावा मिलेगा ही इसके साथ रोजगार के भी नए द्वार खुलेंगे । जब रोजगार मिलेगा तो पलायन अपने आप रूकेगा ।

उन्होंने गंगा की स्वच्छता को बनाए रखने के लिए पर्यटकों एवं स्थानीय लोगों से अपील की है कि खाया और फैकने की संस्कृति को अब हमें बदलना होगा। उन्होंने जल शुद्धीकरण के साथ-साथ मन शुद्धीकरण की भी जरूरत बताये । उन्होंने कहा है कि ई धरती विचारों की और संस्कारों की धरती है जब सोच स्वस्थ होगी तो मन स्वस्थ होगा मन के शुद्धिकरण के लिए विचारों के शुद्धीकरण होना भी जरूरी है। मन और तन जब शुद्ध होंगे तब जीवन स्वास्थ्य होगा ।
उन्होंने यूक्रेन और रूस के बीच चल रहे युद्ध पर कहा है कि भारत हमेशा विश्व के लिये शांति का पुजारी रहा है और हम शांति की कामना कर सकते हैं। शांति डायलॉग और बैठकों से ही हो सकती है। शांति युद्ध और कब्जे से नहीं होती है । उन्होंने यूक्रेन युद्ध में मारे गए मृतक आत्माओं के लिए भी प्रार्थना की । स्वामी ने जल्द युद्ध समाप्त होने की कामना की है। उन्होंने कहा कि भारतीय भारतीय मूल के सभी लोगों की सकुशल वतन लौटेने की कामना की। उन्होंने यूक्रेन से भारत सरकार की तारीफ करते हुये कहा कि सरकार ने महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं और सभी परिवारों को वतन लौटने के लिए ऑपरेशन गंगा के तहत कार्य की शुरुआत की है । इस दौरान जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर डीएम मयूर दीक्षित से उत्तरकाशी जिले को उत्तराखंड प्रदेश का विकास का मॉडल बनाने को लेकर भी चर्चा की गई । स्वामी चिदानंद मुनि महाराज ने कहा है कि उत्तरकाशी गंगा -यमुना जैसी पवित्र नदियों का उद्गम स्थल है जहां प्रतिवर्ष असंख्य देश और विदेश के पर्यटक और श्रद्धालु आते हैं। उन्होंने कहा है कि यहां आध्यात्मिक रूप से उत्तरकाशी महत्वपूर्ण स्थान रखता है यहां काशी और ऋषिकेश हरिद्वार की तर्ज पर गंगा आरती को आधुनिक स्वरूप दिया जा सकता
है इससे उत्तरकाशी नगरी पर्यटकों और श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र बनेगा । उन्होंने उत्तरकाशी के विभिन्न गांव में खाली पड़ी भूमि पर अखरोट ,रुद्राक्ष के पौधों की नर्सरी लगाने पर भी चर्चा की है। इससे पूर्व स्वामी चिदानंद मुनि महाराज ने श्री विश्वनाथ संस्कृत महाविद्यालय उत्तरकाशी व लाटा जूनियर मॉडल स्कूल में छात्र – छात्रों को मिलकर नौनिहालों के साथ फोटोग्राफी भी की।

मुम्बई से आये दिनेश सहारा जी, दीपक शर्मा जी लाटा गांव की प्रधान रंजना नेगी , स्वामी व्यास गिरी, गंगोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश सेमवाल ,भाजपा के वरिष्ठ नेता विजय बहादुर सिंह रावत, डा. मनोज पंवार ,हिमानी , मौनीका , रामलयाल नौटियाल, संतोष अवस्थी आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!