आईआईटी रुड़की के संकाय सदस्यों ने महिलाओं की उपलब्धियों को दर्शाया

Share Now

रुड़की। भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने सीआईआई हाइव में एक ऑनलाइन कार्यक्रम की मेज़बानी की। एसटीईएम शिखर सम्मेलन में महिलाएंरू विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित के क्षेत्र में पथप्रदर्शक के रूप में उनका नेतृत्वष्। शिखर सम्मेलन में ष्एसटीईएम में महिलाएंरू भारत के अग्रणी/75 शीर्षक से एक सार संग्रह का विमोचन किया गया, जिसमें 125 भारतीय महिलाओं की उपलब्धि और कहानियां शामिल थीं, और इस सूची में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की (आईआईटी रुड़की) के 5 संकाय सदस्य शामिल हैं, जिसमें प्रोफेसर कुसुम दीप, प्रोफेसर देबरुपा लाहिड़ी, प्रोफेसर मिली पंत, प्रोफेसर महुआ मुखर्जी और प्रोफेसर प्रणिता पी. सारंगी शामिल हैं। इस कार्यक्रम में भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार प्रोफेसर अजय सूद ने शिरकत की जिन्होंने शिखर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में संग्रह का विमोचन किया।
इस आयोजन में एक प्रगतिशील भारत के गौरवशाली 75 वर्ष पूरे होने के जश्न मनाने के साथ, विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित में महिलाओं की भूमिका को केंद्रित किया गया। उल्लेखनीय है कि यह आयोजन 22 जुलाई को पाई अनुमोदन दिवस पर आयोजित किया गया था।
एसटीईएम में महिलाएंरू वैनगार्ड्स ऑफ इंडिया/75 एसटीईएम के क्षेत्र में तृतीयक स्तर से शिक्षा के व्यावसायिक स्तर तक लैंगिक समानता को बढ़ावा देने के लिए एक पहल है। इसी के साथ एक ओर जहां एसटीईएम के क्षेत्र में महिलाओं का प्रतिनिधित्व दुनिया-भर में एक छोटे-से अंश के रूप में है, वहीं भारत में इन चारों विधाओं में कुल स्नातक के लगभग 43 प्रतिशत के साथ तृतीयक शिक्षा में महिलाओं का प्रतिनिधित्व अच्छा- खासा है। हालांकि, जब एसटीईएम में महिलाओं के लिए नौकरी की बात आती है तो यह संख्या कम हो जाती है। इस प्रकार श्एसटीईएम शिखर सम्मेलन में महिलाएंश् इस कार्यक्रम के अंतर्गत, सरकार, कॉरपोरेट्स और वैज्ञानिक अनुसंधान सुविधाओं से अपने अनेक हितधारकों के साथ एसटीईएम में महिलाओं की भूमिका को और सुविधाजनक बनाने के लिए इस एक संग्रह में महिलाओं के योगदान की सराहना करती हैं। इस शिखर सम्मेलन में अन्य लोगों के बीच प्रमुख पैनलिस्ट के रूप में विपिन सोंधी, अध्यक्ष, सीआईआई नेशनल मिशन ऑन टेक्नोलॉजी, इनोवेशन एंड रिसर्च, सिंधु गंगाधरन, अध्यक्ष, (एसटीईएम शिखर सम्मेलन में महिलाएं) तथा वरिष्ठ उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, एसएपी लैब्स इंडिया और डॉ रेणु स्वरूप, पूर्व सचिव, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, जैसी प्रमुख हस्तियां थीं। भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) नीतिगत मुद्दों पर सरकार के साथ मिलकर काम करके, विचारशील नेताओं के साथ इंटरफेसिंग, दक्षता और प्रतिस्पर्धात्मकता बढ़ाने के माध्यम से भारत के विकास के लिए अनुकूल माहौल बनाने और बनाए रखने के लिए तथा उद्योग के लिए व्यापार के अवसर प्रदान करने का काम करता है। संग्रह के बारे में बताते हुए, आईआईटी रुड़की के निदेशक, प्रोफेसर अजीत के चतुर्वेदी ने कहा, ष्मुझे खुशी है कि हमारी पाँच महिला सहयोगियों को इस अद्वितीय विशिष्टता से पहचाना गया है। यह एसटीईएम विषयों में महिला संकाय को अपना सर्वश्रेष्ठ देने के लिए तथा आईआईटी रुड़की को सुविधाजनक बनाने की दिशा में एक प्रभावशाली पहचान भी है। स्टेम में महिलाओं के संग्रह को लॉन्च करते हुए, भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार, प्रोफेसर अजय सूद ने इस बात पर प्रकाश डालते हुए कहा कि स्टेम में सिर्फ 16 प्रतिशत महिला कर्मचारी हैं, जबकि हमें इस दिशा में अपने प्रयासों को आगे बढ़ाने की ज़रूरत है। यह पहल सरकार की राष्ट्रीय शिक्षा नीति में, विज्ञान और प्रौद्योगिकी की नीति में और वर्तमान शिखर सम्मेलन की सही स्पिरिट में शामिल है। इसके अलावा, पीएसए के कार्यालय के माध्यम से, सामान्य रूप से विज्ञान में महिलाओं से जुड़े कंसर्न को दूर करने के लिए कॉर्पाेरेट्स और शिक्षाविदों सहित एक क्लस्टर तंत्र तैयार किया गया है, जो विशेष रूप से स्टेम में महिलाएं, इस विषय से जुड़ा हुआ है। प्रोफेसर कुसुम दीप, प्रोफेसर (एचएजी), गणित और संयुक्त संकाय, मेहता फैमिली स्कूल ऑफ डेटा साइंस एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, आईआईटी रुड़की ने कहा, सफलता की कहानियों वाला संग्रह जो पेरेंट्स को स्टेम में उनकी बेटियों के भविष्य की संभावनाओं के बारे में जागरूक करने का एक बड़ा प्रयास है।
आईआईटी रुड़की के मेहता फैमिली स्कूल ऑफ डेटा साइंस एंड आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के एप्लाइड मैथमेटिक्स एंड साइंटिफिक कंप्यूटिंग और ज्वाइंट फैकल्टी विभाग की प्रमुख प्रोफेसर मिली पंत ने कहा, ष्समाज के विभिन्न सामाजिक तबके की महिलाओं की सफलता की ये कहानियां महिलाओं के बीच व्याप्त असफलताओं के इस डर को रेखांकित करेंगी, साथ ही उन्हें और अधिक सीखने के लिए प्रेरित करेंगी। प्रोफेसर देबरुपा लाहिरी, मेटलर्जिकल और मैटेरियल्स इंजीनियरिंग विभाग और सेंटर फॉर नैनो टेक्नोलॉजी, आईआईटी रुड़की में संयुक्त संकाय, ने कहा कि यह पहल रचनात्मकता और नवाचार को प्रोत्साहित करेगी और उन महिलाओं में नेतृत्व की भावना पैदा करेगी जो स्टेम द्वारा अपना करियर बनाना चाहती हैं, यह उन्हें अपने स्वयं के अनूठे अनुभवों और दृष्टिकोणों को मेज पर लाने की अनुमति देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!