मसूरी – शिफन कोट की जनता के संघर्ष की जीत – आप

Share Now

मसूरी के शिफन कोट से बेघर किये गये 84 परिवारों की लड़ाई के लिये आम आदमी पार्टी मसूरी और शिफन कोट की जनता लगातार संघर्षरत थी और इस दौरान धरने प्रदर्शन करते हुए उन पर कई बार केस भी दर्ज किये गये। आखिकार मसूरी पालिका अध्यक्ष और बोर्ड को ज़मीन का प्रस्ताव पास करना पड़ा।

“आप”की माने तो ये आम आदमी पार्टी और शिफन कोट की जनता के संघर्ष की जीत है कि पालिका अध्यक्ष और बोर्ड को झुकना पड़ा और ज़मीन का प्रस्ताव पास कर शासन को भेजा।

उन्होंने कहा कि क्या आईडीएच में इतने लोगों को विस्थापित करने के लिये पर्याप्त ज़मीन है? जबकि पहले से विस्थापित लोगों के लिए अभी भी 56 फ्लैट बनने बाकी हैं और शिफन कोर्ट के 84 परिवार मिलाकर कुल 150 फ्लैट बनेंगे। आदमी पार्टी मांग करती है कि मसूरी नगर पालिका और शासन सूचना को सार्वजनिक करे कि कितने लोग विस्थापित होंगे, विस्थापन के लिये ज़मीन कहाँ और कितनी दी गयी है और कब ये फ्लैट बनकर तैयार होंगे और कब तक शिफन कोट की जनता को वहा स्थायी तौर पर वविस्थापित किया जायेगा?

श्री पिरशाली ने कहा कि मसूरी पालिका अध्यक्ष ने कहा था कि “मैं दो दिन के अंदर शिफन कोट के लोगों का अस्थायी विस्थापन का इंतज़ाम कर दूंगा” लेकिन शिफन कोट की जनता बिना किसी प्रकार की सुविधा के आज भी वैसे ही रहने को मजबूर है।मसूरी विधायक गणेश जोशी कह रहे थे कि जैसे ही पालिका ज़मीन चिन्हित करेगी तो वो उसी समय वहाँ पर उनके लिये अस्थायी व्यवस्था कर देंगे, लेकिन आज तक सूरी विधायक का पता नहीं है, शिफन कोट की जनता उनको ढूंढ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!