ऋषिकेश : बच्चा रोएगा नहीं तो माँ नहीं देगी दूध ? हाइ कोर्ट की फटकार के बाद भी सुधरा नहीं स्वास्थ्य विभाग

Share Now

स्वास्थ्य के मसले पर हाइ कोर्ट की फटकार के बाद भी विभाग सिर्फ कोरोना से निपटने की तैयारी के आंकड़े ही पेश करने तक सीमित रह गया है | इस दौरान अन्य बीमार / घायल और खास कर गर्भवती महिलाओ के लिए व्यवस्थाओ से विभाग का ध्यान हट सा गया है | ऐसे ही एक मामले मे 15  गावों की निर्भरता वाला पीएचसी छिददरवाला का एक हिस्सा एनएच निर्माण मे चले जाने के बाद से स्वास्थ्य सेवाए भगवान भरोसे चल रही है | युवा नेता जयेन्द्र रमोला ने सीएमओ देहारादून से भेंट कर उक्त मामले मे जल्द सज्ञान लेने की मांग की है   

गुरुवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य जयेन्द्र के नेतृत्व में मुख्य चिकित्सा अधिकारी देहरादून को छिद्दरवाला प्रथामिक  स्वास्थ्य केंद्र को जल्द से जल्द बनाये जाने व प्रसव केंद्र को सुचारू रूप से चलाए जाने की मांग को लेकर ज्ञापन दिया गया

बिना रुलाये बच्चो को दूध देने की हो व्यवस्था

अखिल भरतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्य जयेन्द्र रमोला ने कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र छिद्दरवाला जिसके अंतर्गत  ग्राम सभा छिद्दरवाला, साहब नगर, चक जोग्गीवाला, जोगीवाला माफी, खैरी कूर्द, खैंरी कलां , गढी मयचक , श्यामपुर, भट्टोंवाला, गुमानीवाला, खदरी खड़कमाफ, रायवाला, गौहरी माफी, प्रतीत नगर, खाँड गाँव आते है, जिसमें ग्रामीण क्षेत्र के लोगों के साथ साथ अन्य आने जाने वाले लोगों को भी सुविधा मिलती थी परंतु प्राथमिक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य केंद्र का कुछ हिस्सा राष्ट्रीय राजमार्ग चौड़ी करण में समाहित हो गया है जिस कारण स्वास्थ्य केंद्र जीर्ण शीर्ण स्थिति मे संचालित हो रहा है जिसके कारण समस्त ग्राम सभा के लोगो को बहद परेशानी का सामना करना पड़ रहा है ।

ज़िला महासचिव गोकुल रमोला ने कहा की प्राथमिक स्वास्थ्य केंद छिद्दरवाला पंद्रह ग्राम सभाओ मे एक मात्र सरकारी स्वास्थ्य केंद्र है परंतु आज यह रेफेर सेंटर बनकर रह गया है प्रसव करने के लिए उचित व्यवस्था न होने के कारण आस पास क्षेत्र के गर्भवती महिलाओं को  बेहद कष्ट का सामना करना पड़ता है व उन्हें शहरी क्षेत्रो में बने निजी अस्पतालों की ओर रुख करना पड़ता है क्योंकि पिछले काफी समय से एक कर्मचारी द्वारा जिसका स्थानातरण कुछ वर्ष पूर्व हो गया था स्वास्थ्य केंद्र के कमरे को कब्जा कर रखा है जिसके कारण स्वास्थ्य कर्मियों को असुविधा का सामना करना पड़ता है

ज्ञापन प्रेषित करने वाले कांग्रेस सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव गजेंद्र विक्रम शाही, मनोज पंवार, रविन्द्र राणा, कुंवर सिंह गुसांई, दीपक नेगी, यश अरोड़ा रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!