श्रीनगर विधानसभा की 16 सड़कों के डामरीकरण हेतु 7.25 करोड़ स्वीकृत

Share Now

देहरादून। राज्य सरकार ने श्रीनगर विधानसभा क्षेत्र केे अंतर्गत तीन निर्माण खण्डों श्रीनगर, पाबौं एवं बैजरों के तहत वित्तीय वर्ष 2021-22 हेतु 16 मोटर मार्गों के 63 किलोमीटर के डामरीकरण के लिए रूपये 7 करोड़ 22 लाख की धनराशि स्वीकृत की है। इसके अलावा थलीसैंण में 64 लाख की लगात से लगभग तीन किलोमीटर भीड़ा-गंगगांव मोटर मार्ग एवं खिर्सू में चार किलोमीटर खांकरियों-भंडाई मोटर मार्ग की स्वीकृति मुख्यमंत्री घोषणा के अंतर्गत की गई है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में श्रीनगर विधानसभा क्षेत्र के शत प्रतिशत राजस्व गांवों को मोटर मार्ग से जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। जिला योजना के अंतर्गत वर्ष 2018-19 में स्वीकृत तीन मोटर मार्गों का निर्माण ग्रामीणों में आपसी सहमति न बनने के कारण नहीं हो सका था। इनके स्थान पर पांच नए मोटर मार्गों को स्वीकृति प्रदान की गई है। जिनमें रामपुर से कांडा मोटर मार्ग, मन्देरा से चमडांग-बुधाणी, गहड़ से नारायणखेत, ओडला अंदरगढ़ी तोक से जलेथा अनुसूचित बस्ती तथा ढांमकेश्वर से खण्डाह भेलगढ़ मोटर मार्ग शामिल हैं।
यह जानकारी उच्च शिक्षा, सहकारिता, प्रोटोकाल, आपदा प्रबंधन एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. धन सिंह रावत ने आज विधानसभा स्थित कार्यलय कक्ष में श्रीनगर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत निर्माणाधीन मोटर मार्गों के संबंध में आयोजित लोक निर्माण विभाग की समीक्षा बैठक के उपरांत दी। डा. रावत ने बताया कि श्रीनगर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2021-22 में 16 मोटर मार्गों के 63 किलोमीटर के डामरीकरण के लिए रूपये 7 करोड़ 22 लाख की धनराशि स्वीकृत की गई है। जबकि थलीसैंण में तीन किलोमीटर भीड़ा-गंगगांव मोटर मार्ग के द्वितीय चरण के निर्माण हेतु 64 लाख स्वीकृत किये गये हैं। इसी प्रकार खिर्सू में लग्यालूबगड़- खांकरियों मोटर मार्ग के विस्तारीकरण के क्रम में चार किलोमीटर खांकरियों-भंडाई मोटर मार्ग की स्वीकृति मुख्यमंत्री घोषणा के अंतर्गत की गई है। डा. रावत ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि अधिक गांव के आसपास एवं अत्याधिक खराब स्थिति वाले वाले मोटर मार्गों के डामरीकरण को प्राथमिकता दी जाय। साथ ही उन्होंने कहा कि विधानसभा क्षेत्र का कोई भी गांव मोटर मार्ग से वंचित नहीं रहना चाहिए। अब भी यदि कोई गांव सड़क से वंचित रह गया है तो अधिकारी शासन को तत्काल प्रस्ताव भेजें। उन्होंने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि ग्रामीणों की आम सहमति के उपरांत ही मोटर मार्गों के निर्माण का कार्य शुरू किया जाय ताकि भविष्य में किसी प्रकार के विवाद का सामना न करना पड़े।  
बैठक में निर्माण खण्ड श्रीनगर के तहत सुमाड़ी-बुघाणी मोटर मार्ग, छातीखाल मोटर मार्ग, चमेला-कटाखोली मोटर मार्ग के डामरीकरण, निर्माण खण्ड बैजरों में भिक्यासैण- देघाट-बूंगीधार-महलचैरी-बछुआबाण-चैखुटिया मोटर मार्ग, थलीसैंण-बूंधीधार-देघाट- जैनल -मानिला-डोटियाल-मरचूला मोटर मार्ग, स्व0 गीताराम पोखरियाल मोटर मार्ग (मरचूला-सराईखेत-बैजरो-पोखड़ा-सतपुली मोटर मार्ग), बैजरो- जोगीमढ़ी- सराईखेत- भगवतीतलैया-चैखाल-जसपुरखाल-भण्डेली मोटर मार्ग जबकि निर्माण खण्ड पाबौं के अंतर्गत कर्णप्रयाग नौठी-पैठाणी मोटर मार्ग, पैठाणी बडेथ नौडी मोटर मार्ग, चंगीन-कुचैंली-कुठूयूड मोटर मार्ग, गोड्ख्याखाल-विशल्ड मोटर मार्ग, कुलमोरी सम्पर्क मार्ग, निसणी बुघाणी मोटर मार्ग, साकरसैंण-बरसीला-बगड मोटर मार्ग, चोपड़ा-नौगांव-न्याणगढ़-डुग्री मोटर मार्ग, बिडोली घुन्ना मोटर मार्गों की प्रगति की समीक्षा की गई। बैठक में प्रमुख अभियंता लोक निर्माण विभाग हरिओम शर्मा, अधिशासी अभियंता लोनिवि श्रीनगर आर.पी. नैथानी, अधिशासी अभियंता लोनिवि पाबौं दिनेश मोहन गुप्ता, अधिशासी अभियंता निर्माण खण्ड बैजरों आदर्श गोपाल सिंह, सहायक अभियंता लोनिवि श्रीनगर महक सिंह, सहायक अभियंता लोनिवि श्रीनगर वेदपाल सिंह पंवार सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!