चकबंदी रोड क्षतिग्रस्त करने पर फूटा ग्रामीणों का गुस्सा

Share Now

हरिद्वार। धनौरी मार्ग से सलेमपुर सुमन नगर जाने वाली चकरोड को वन विभाग के रेंजर दिनेश नौडियाल द्वारा क्षतिग्रस्त करने पर ग्रामीणों का गुस्सा फूट पड़ा। सुमन नगर और सलेमपुर वासियों ने जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे से मुलाकात कर रेंजर के खिलाफ शिकायती पत्र सौंपते हुए रेंजर के खिलाफ कार्रवाई और रास्ते को खोलने की की मांग की है।
सलेमपुर निवासी राव साउद ने कहा कि मौके पर स्थित मार्ग सरकारी नक्शे और सजरे में भी अंकित है जो कि चलने योग्य नहीं था गांव वालों ने अपने श्रम से इस मार्ग को चलने योग्य बना लिया। इसको बनाने में ना ही किसी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया और ना ही किसी हरे पेड़ों को काटा गया। लेकिन रेंजर दिनेश नौडियाल और उनके सहयोगियों द्वारा मार्ग को जेसीबी से बार-बार क्षतिग्रस्त कर दिया जाता है। जबकि पुनर्वास एवं सिंचाई विभाग द्वारा पानी की निकासी के लिए इस रास्ते पर दो पुलिया भी बनाई गई है जो कि मौके पर साक्षात है। ग्राम निवासी रास्ता बंद होने के कारण खेतों पर फसल ले जाने के लिए परेशानियों का सामना कर रहे हैं। उनकी समस्या का निदान किया जाए। सुमन नगर निवासी राजेश कुमार ने कहा कि रेंजर अपनी दबंगई दिखाते हुए बार-बार गांव वासियों को झूठे केस में फंसा कर जेल जाने की धमकी दे रहे हैं। इसलिए उनके खिलाफ प्रशासन को कार्रवाई करनी चाहिए। गांव से आने जाने के लिए उक्त मार्ग को दोबारा सुचारू किया जाए। जिससे ग्रामवासी रास्ते का प्रयोग कर सकें। मनीष कुमार एवं मुनव्वर ने कहा कि रेंजर दिनेश नौडियाल अपने पद का दुरुपयोग कर कई महीनों से ग्राम वासियों को परेशान कर रहे हैं। उनके द्वारा बार-बार लगातार लोगों को धमकियां भी दी जा रही है। जबकि उनके खुद के निवास के बगल में बड़े स्तर पर वन विभाग की भूमि पर अतिक्रमण हो रहा है जो उन्हें दिखाई नहीं देता है। हम सभी जिलाधिकारी से मांग करते हैं कि उन्हें तत्काल प्रभाव से पद मुक्त किया जाए और ग्राम वासियों की समस्या का निस्तारण शासन-प्रशासन करें। कमल सिंह एवं भरपुरी लाल ने कहा कि डीएफओ से शिकायत के बाद भी रेंजर अपनी दबंगई दिखा रहे हैं उनके खिलाफ कार्यवाही सुनिश्चित होनी चाहिए यदि रास्ते को जल्द ही संचालित नहीं किया गया तो ग्रामवासी उग्र आंदोलन करने को मजबूर होंगे। जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए ग्राम वासियों को आश्वासन दिया कि जल्द ही वह स्वयं इस मामले की गहनता से जांच करा कर उनकी समस्या का निस्तारण करेंगे। उनके संज्ञान में यह मामला आया है जिस पर वह सर्वे कराकर मामले में कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे।शिकायती पत्र देने वालों में सोनू, मोहसीन, भूरा नईम, समीर, अनीश, सुमित कुमार, अमित, शारदा, रमेश, अनिल कुमार, कुर्बान, विजय कुमार, सुजान सिंह अमन लाल विनीत चैधरी, हर्ष चैहान, तेलू राम, सुमेर चंद, कमल सिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!