किसान अपना करार कभी भी खत्म कर सकता है लेकिन फसल खरीदने वाला अगर करार खत्म करता है तो उसको हर्जाना देना होगा – कृषि कानून पर बोले मदन कौसिक

Share Now


-कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने आज भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में नए कृषि कानूनों को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान मदन कौशिक ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों की आय को दोगुना करने और उनके हित के लिए कृषि सुधार कानून लेकर आई है. 2014 से पहले कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल इन कानूनों के पक्ष में थे. लेकिन अब वो केवल विरोध के लिए इन कानूनों का विरोध कर रहे है. विपक्ष देश के अन्नदाता को बरगलाने का काम कर रहा है. नए कृषि कानूनों का विरोध केवल 2-3 राज्यों में हो रहा है। मदन कौशिक ने कहा कि उपज की कीमत करार से पहले ही तय हो जाएगी और किसान अपना करार कभी भी खत्म कर सकता है लेकिन फसल खरीदने वाला अगर करार खत्म करता है तो उसको हर्जाना देना होगा. नए कानूनों से ना जमीन को खतरा है ना एमएसपी खत्म होगी और मंडी व्यवस्था भी खत्म नहीं होगी. इन कानूनों से किसान को किसी भी जगह फसल बेचने की स्वतंत्रता होगी. किसान सभी पाबंदियों से मुक्त हो जाएंगे.मदन कौशिक ने कहा कि भारत सरकार ने कृषि विभाग का बजट 6 साल में 6 गुना बढ़ाया है.
मदन कौशिक,कैबिनेट मंत्री

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!