उत्तराखंड के सरकारी स्कूल में पढ़ रहे नौनिहालों की जान खतरे मेंः आप

Share Now

देहरादून। आज आम आदमी पार्टी के गढ़वाल मीडिया प्रभारी रविंद्र सिंह आनंद ने एक बयान जारी कर चंपावत जिले के पाटी ब्लॉक के मौन कांडा गांव में राजकीय प्राथमिक विद्यालय के शौचालय की छत गिर जाने पर हुई मासूम की मौत एवं पांच बच्चों के घायल होने पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि एक और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी विजन 2025 के तहत उत्तराखंड को सर्वश्रेष्ठ प्रदेश बनाने की बात करते हैं वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री की अपनी विधानसभा में एक सरकारी स्कूल की शौचालय की छत गिरने से एक मासूम की मौत हो जाती है एवं पांच बच्चे घायल हो जाते हैं।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री धामी किस प्रदेश को श्रेष्ठ प्रदेश बनाने की बात कर रहे हैं यह समझ से परे है, प्रदेश के सरकारी स्कूलों का हाल दयनीय है उन्होंने कहा कि उप चुनाव जीतने के बाद ना ही शिक्षा मंत्री और ना ही मुख्यमंत्री ने विधानसभा क्षेत्र की सुध ली है ऐसे में वह भला प्रदेश के सरकारी विद्यालयों की क्या सुध लेते ऐसा हादसा पहली बार सुनने में नहीं आया है पूर्व में भी इस तरह के कई हादसे हो चुके हैं परंतु इस बार मुख्यमंत्री की स्वयं की विधानसभा में इस तरह का हादसा होना बहुत ही शर्मनाक है वह भी तब जब उन्होंने चंपावत जिले के लोगों को चुनाव के वक्त यह आश्वासन दिया था कि शिक्षा, स्वास्थ्य आदि मूलभूत समस्याओं का वे निदान करेंगे परंतु ऐसा कुछ भी ना हो सका उन्होंने कहा कि शायद सरकार की ऐसी मंशा है की बेरोजगारों को नौकरी ना देना एवं शिक्षा के अधिकार से भी वंचित रखना।
उन्होंने कहा की बीजेपी सरकार का ध्यान सरकारी स्कूलों की ओर नहीं है यही कारण है कि पिछले 5 वर्षों में लगभग ढाई हजार सरकारी स्कूल अब तक बंद हो चुके हैं क्या इसके पीछे प्राइवेट स्कूलों को लाभ पहुंचाने की राजनीति है। क्या यह कहना गलत होगा कि ज्यादातर प्राइवेट स्कूल नेताओं और उनके रिश्तेदारों के हैं। उन्होंने कहा यह घटना हृदय को विदीर्ण कर देने वाली है। उन्होंने आगे कहा की संविधान में सभी को शिक्षा पाने का अधिकार है और गरीब व पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति की ओर सरकार का दायित्व अधिक बन जाता है परंतु उत्तराखंड में भाजपा की सरकार ने शायद इन लोगों से आंखें मूंद ली है और इनका उपयोग केवल चुनाव तक ही सीमित रखा है फिर ऐसे में हम कैसे श्रेष्ठ उत्तराखंड की कामना कर सकते हैं। आनंद ने आगे कहा कि यदि मुख्यमंत्री को सरकारी स्कूलों के विषय में काम देखना हो तो वह अरविंद केजरीवाल का दिल्ली मॉडल देख सकते हैं एवं उसे अपना भी सकते हैं उन्होंने कहा अच्छा काम कोई भी करें उसका अनुसरण करने में कभी कोई बुराई नहीं हो सकती उन्होंने कहा आज विश्व में दिल्ली के सरकारी स्कूलों की चर्चा हो रही है। अंत में उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी मृतक के परिजनों एवं घायलों के परिजनों को उचित मुआवजा दिए जाने की मांग करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!