प्रदेश के रुझान से हटकर है यमनोत्री का रुझान – विधान सभा चुनाव 2022

Share Now

उत्तराखंड की धार्मिक यात्रा जहां से सुरू होती है उस देवभूमि का नाम है यमनोत्री। विधानसभा चुनाव 2022 के लिए एक बार फिर से यमनोत्री तैयार दिखाई दे रही है । मतदाताओ के लिहाज से यमनोत्री विधान सभा कई पोकेट्स मे बंटी  हुई है,  जिसमे चिनयाली – ब्रह्मखाल – दिचली – गमरी – बंचौरा बिष्ट पट्टी – बड़कोट – गीठ प्रमुख है

| मोटे तौर पर विधान सभा गंगा और यमुना दो घाटियो मे बंटी हुई है जिसमे 65% योगदान गंगा घाटी का जबकि 35 % योगदान यमुना घाटी का रहा है ।  अभी तक के चुनाव मे हमेसा कम मतदाता होने के बाद भी यमुना घाटी का बोलबाला रहा है और टिकट का बंटवारा भी इसी तर्ज पर होता रहा है ।  पिछले चुनाव मे गंगा घाटी मे कॉंग्रेस के पक्ष मे वोट नहीं पड़ने की वजह से कॉंग्रेस के हाथो सीट जाती रही । हालांकि बीजेपी की झोली मे भी जीत  सिर्फ इसलिए  गई कि पहले से ही जीत का समीकरण  बनाने और बिगाड़ने वाले निर्दलीय प्रत्यासी ने अपनी विधानसभा ही बदल ली और बीजेपी ने कॉंग्रेस से केदार सिंह रावत को आयात कर प्रत्यासी बनाकर पेश कर दिया और पहली बार यमनोत्री से बीजेपी के खाते  मे जीत का अंक दर्ज हुआ | इस बार सभी प्रमुख दावेदारों ने गंगा घाटी की चिनयाली को अपना केंद्र बनाया है और प्रचार सिर्फ एक महीने का नहीं बल्कि पिछले दो वर्षो से जबर्दस्त मेहनत चल रही है ।   यमनोत्री ने कभी भी नेशनल पार्टी की तरफ अपना रुझान नहीं दिखाया इस बार भी निर्दलीय प्रत्यासी के तौर पर जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजलवान मैदान मे अंगद कि पैर कि तरह खड़े है | बीजेपी और  कॉंग्रेस मे प्रत्यासी  बदलने की  अफवाह  के बीच निर्दलीय प्रत्यासी दीपक रक्षा सूत्र बांधने वाली अपनी  चालीस हजार बहिनो के भरोसे न सिर्फ विधान सभा मे जीत के प्रति आश्वस्त है बल्कि प्रदेश मे मिली जुली सरकार बनने की दशा मे मंत्री बनने की तैयारी कर रहे है।  ऐसा उनके समर्थक मतदाताओ के बीच जाकर भरोसा भी दिला रहे है |  मतदाताओ का कहना है कि पिछले दो वर्षो से वे अपनी छोटी बड़ी दिक्कतों के लिए जिला पंचायत अध्यक्ष के पास जा रहे है और उनकी समस्या का हर संभव निदान हो रहा है यही वजह है कि इस बक्त जिले कि छोटी सरकार मे बैठे जिला पंचायत अध्यक्ष प्रदेश कि बड़ी सरकार मे अपनी भूमिका निभाने को मचल रहे है | दीपक कहते है कि सिस्टम अंगेजों के जमाने का है जिसमे आम आदमी कि समस्या संदाहन के लिए इतना अधिका समय बरबाद होता है कि एक और नई समस्या पैदा हो जाती है – विधान सावहा चुनाव मे यमनोत्री से दावेदार दीपक बिजलवान से मेरु रैबार ने बातचीत की –

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!