फिर नए लफड़े में फंसे मंत्री हरक, पूर्व प्रेस सचिव ने लगाए गंभीर आरोप

Share Now

कोटद्वार। वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत के पूर्व प्रेस सचिव व उनके खास माने जाने सुधीर बहुगुणा का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें वह मंत्री से अपना हिसाब-किताब मांग रहे हैं। वह एक सप्ताह के भीतर हिसाब-किताब न करने पर अपने परिवार के साथ धरना-प्रदर्शन की बात कह रहे हैं। वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कोटद्वार में अपनी विधानसभा सीट पर नए प्रेस सचिव की नियुक्ति की है। इस पर उनके पूर्व प्रेस सचिव व मंत्री के करीबी माने जाने सुधीर बहुगुणा बिफर गये हैं। उन्होंने कहा कि आपने 20-25 साल मुझे काम करने का जो तोहफा दिया है, जिस प्रकार से जलील किया है उसकी बधाई। सुधीर बहुगुणा ने वीडियो में जेनी प्रकरण की बात भी कही है। बहुगुणा का कहना है कि जितने लोगों ने आप के खिलाफ आवाज उठाई, उनसे मेरी लड़ाई हुई। आपकी वजह से मैंने छह से सात मुकदमे उन लोगों के खिलाफ किए हैं। क्योंकि मैं आपके साथ हमेशा खड़ा था। जब से आप कोटद्वार विधानसभा क्षेत्र में आए तब से आपने मेरा इस्तेमाल किया है। सुधीर बहुगुणा कहते हैं कि पहले राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी के खिलाफ, कभी शैलेंद्र सिंह गढ़वाली के खिलाफ, कभी पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ लिखवाया। आज आपने उन लोगों को, जो विरोधी हैं प्रेस सचिव बनाया है। पिछले कोरोना काल में भी मैंने काम किया। इस बार भी किया लेकिन आपने मुझे कोई सम्मान नहीं दिया। उन्होंने अपने वीडियो में कहा है कि वो वन मंत्री से अपना हिसाब मांग रहे हैं। उन्होंने बताया जब पूर्व में प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत कोटद्वार आए उस कार्यक्रम के 80 हजार रुपये देने हैं। आपकी बहू ने प्रोग्राम करवाया था उसमें 3 लाख 50 हजार रुपये खर्च हुए। उस कार्यक्रम के भी 2 लाख 10 हजार रुपए आपको देने हैं। सुधीर बहुगुणा ने वीडियो में कहा है कि आपने एक प्रोग्राम में घोषणा की थी कि कलाकारों के लिए एक लाख रुपये की और दो लाख संस्था के लिए, वो पैसे भी चाहिए। जयहरीखाल में एक प्रोग्राम में मुख्य अतिथि के रूप में आए थे। वहां पर आप ने दो लाख रुपये देने की घोषणा की थी, वो रुपये भी चाहिए। उन्होंने कहा है कि एक सप्ताह के भीतर आपके खिलाफ धरना-प्रदर्शन करेंगे और बच्चों के साथ बैठेंगे। मंगलवार को सांकेतिक 10 मिनट का धरना आपके कार्यालय पर. आपकी बहू के कार्यालय में और भाजपा कार्यालय में समस्याओं को लेकर धरना-प्रदर्शन करेंगे। एक सप्ताह के बाद में अपने बच्चों को साथ लेकर परमानेंट धरना-प्रदर्शन करूंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!