सीमांत गांव माणा व देहरादून में तैनात शिक्षक के वेतन में अंतर होना चाहिये था – प्रख्यात पत्रकार स्व राजेन टोडरिया की पुण्यतिथि

Share Now

जनपद पौड़ी गढ़वाल के देवप्रयाग प्रख्यात पत्रकार स्व राजेन टोडरिया की पुण्यतिथि पर आयोजित समारोह में विभिन्न सगठनों द्वारा उन्हे याद किया गया। उक्रांद के केंद्रीय अध्यक्ष व पूर्व कबीना मंत्री दिवाकर भट्ट ने कहा राजेन टोडरिया ने पत्रकारिता के माध्यम से उत्तराखंड आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी।

भगवान् सिंह
राजेन टोडरिया स्मृति मंच उत्तराखंड द्वारा आयोजित समारोह में विभिन्न वक्ताओं ने पत्रकार राजेन टोडरिया की जनपक्षीय पत्रकारिता को याद किया गया। उक्रांद के केंद्रीय अध्यक्ष दिवाकर भट्ट ने कहा उत्तरखण्ड निर्माण में जिन पत्रकारों की महत्वपूर्ण भूमिका रही उसमें राजेन टोडरिया एक महत्वपूर्ण नाम रहा है। आज हम उस उत्तराखंड को नही बना पाये है जिसकी कल्पना उन जैसे पत्रकारों ने की थी। पहाड़ लगातार खाली हो रहे है। राज्य निर्माण के बीस बर्षो बाद भी सीमांत गांव माणा व देहरादून में तैनात शिक्षक के वेतन में जो अंतर होना चाहिये था वह अभी तक नही हो पाया है। ऐसे में क्यो कोई पहाड़ चढ़ना चाहेगा। बद्रीनाथ केदारनाथ को सरकार पिकनिक स्पॉट बनाने पर तुली है। जबकि ये हमारे आस्था के केंद्र है। उन्होंने कहा स्व राजेन टोडरिया के गांव सौड में रेलवे परियोजना से प्रभावित ग्र।मीणों के हक के लिये आंदोलन किया जायेगा। नगरपालिका अध्यक्ष कृष्णकांत कोटियाल ने कहा कि स्व राजेन की स्मृति में प्रतिवर्ष देवप्रयाग में समारोह आयोजित होगा। पत्रिकारिता क्षेत्र में स्व राजेन टोडरिया ने देवप्रयाग को नई पहचान दी। स्व राजेन टोडरिया के पुत्र लुशुन टोडरिया ने उनके जीवन से जुड़े पहलुओं पर प्रकाश डालते हुये कहा उनके अधूरे कार्यो को पूरा किया जायेगा। इस मौके पर पूर्व प्रमुख जयपाल पंवार, पूर्व प्रमुख विजयंत निजवाला, उक्रांद केंद्रिय सचिव पान सिंह, प्रभाकर बाबुलकर, मुकेश प्रयागवाल, दिनेश टोडरिया, कमल राणा, भाष्कर मिश्रा, किशन सिंह, श्यामलाल पंचपुरी, नरेंद्र रतूड़ी, रिकू बिष्ट, आशा टोडरिया, अनिता देवी, दुर्गी देवी, रेणु, आदि द्वारा स्व राजेन टोडरिया को श्रद्धाजली दी गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!