सीएचसी डोईवाला को पीपीपी मोड पर दिए जाने के खिलाफ कल से उक्रांद का आमरण अनशन

Share Now

देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डोईवाला को पीपीपी मोड में दिए जाने के खिलाफ चल रहे कर्मिक अनशन को आमरण अनशन में बदलने का फैसला कर लिया है। आंदोलन के आठवें दिन उत्तराखंड क्रांति दल की नगर संगठन मंत्री शशि बाला और नगर उपाध्यक्ष भावना मैठाणी क्रमिक अनशन पर बैठी। उत्तराखंड क्रांति दल के विधानसभा प्रभारी शिवप्रसाद सेमवाल ने बताया कि आंदोलन अगले चरण में आमरण अनशन किया जाएगा। 
उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय सचिव केंद्रपाल सिंह तोपवाल आमरण अनशन शुरू करेंगे। क्रमिक अनशन पर बैठे शशि बाला और भावना मैठाणी ने बताया कि अस्पताल में छोटी-छोटी बीमारी के इलाज के लिए आने वाले मरीज को भी रेफर कर दिया जाता है। उन्होंने आक्रोश जताया कि यह अस्पताल मात्र एक रेफरल सेंटर बनकर रह गया है। धरना स्थल पर लगातार अपना समर्थन दे रहे समाजसेवी रामेश्वर पांडे ने इस अवसर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डोईवाला पिछले 5 वर्षों से हिमालयन अस्पताल के ट्रेनी डॉक्टरों की प्रयोगशाला बना हुआ है और इलाज करने के बजाए आम आदमी के साथ गिनी पिग की तरह प्रयोग किए जा रहे हैं। उत्तराखंड क्रांति दल डोईवाला की जिला कमेटी ने आमरण अनशन पर बैठने के लिए केंद्रपाल सिंह तोपवाल के नाम की घोषणा करते हुए बताया कि अब सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का निजी अस्पताल से अनुबंध निरस्त होने के बाद ही आंदोलन संपन्न किया जाएगा। आंदोलन के नौवें दिन उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय सचिव केंद्रपाल सिंह तोपवाल, जिला अध्यक्ष संजय डोभाल, राकेश तोपवाल, जगदंबा प्रसाद भट्ट, निर्मला भट्ट, सरिता गुसाईं, रमेश तोपवाल, हर्ष रावत, शिवम पाल, प्रमोद डोभाल, शशिधर वेदवाल, सबल सिंह कुमाई, महेंद्र सिंह, रंजीत रावत आदि दर्जनों लोग आंदोलन मे शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!