उत्तरकाशी : लैब मे तैयार होंगे सेब और कीवी के मौसम अनुकूल पौधे – कीड़ा और रोगमुक्त पौध

Share Now

आधुनिक युग मे सेब और कीवी जैसे फलो की उन्नतशील किश्म को पहले लैब मे तैयार किया जाएगा ताकि उसे यहा के मौसम के अनुकूल बनाया जा सके यहा से निकलने वाले पौदों पर आरपीजी आउट कीड़े लाग्ने की संभावना बहुत कम होगी

उत्तरकाशी जिला मुख्यालय के नजदीकी गांव नेताला में टिशू कल्चर लैब  

सहायक जिला उध्यान अधिकारी नन्द किशोर सिंह ने बताया कि बीएडीपी योजना के अंतर्गत उत्तरकाशी जिले के भटवाडी ब्लॉक मे पायलेट  प्रोजेक्ट के रूप मे यह लैब सुरू कि गयी है और करीब ढाई साल बाद यहा से करीब 10 हजार पौध  तैयार होगी जो आकार मे सामान्य से छोटे पेड़ बनेगे और मौसम के अनुकूलता के साथ सामान्यतह  रोग मुक्त होंगे | पहली खेप के रूप मे उन किसानो को यहा से तैयार सेब के उन्नतशील किश्म के पौध उपलब्ध कराये जाएंगे जो पुरानी परंपरागत पेड़ो को बादल कर नया आजमाना चाहते है |

जिलाधिकारी श्री मयूर दीक्षित के निर्देशों के क्रम में उद्यान विभाग द्वारा टिशू कल्चर लैव में विभिन्न प्रजातियों की पौध तैयार की जा रही हैं। उल्लेखनीय है कि माह फरवरी के अंत में जिलाधिकारी ने स्वंय नेताला में टिशू कल्चर लैव की प्रगति का स्थलीय निरीक्षण किया था। तथा लैब की महत्वता को देखते हुए अवशेष कार्यों को तीव्र गति से करते हुए विधिवत संचालन को लेकर मुख्य उद्यान अधिकारी को निर्देशित किया गया था।

      जिलाधिकारी ने कहा कि स्थानीय स्तर पर टिशू कल्चर लैब में सेब व कीवी की पौध तैयार होने से निश्चित तौर पर किसानों को इसका लाभ मिलेगा। आने वाले समय में लैब की क्षमता को और अधिक बढ़ाया जायेगा ताकि अधिक से अधिक किसान इससे लाभान्वित हो सकेंगे।  

     वहीं सहायक उद्यान अधिकारी एनके सिंह ने बताया कि नेताला में पादप संवर्द्धन प्रयोगशाला का संचालन शुरू हो गया है। जिसमें वर्तमान में सेब की क्नोनल रूट स्टाक  किस्म व कीवी की मादा हेवर्ड और नर की टमोरी किस्म की पौध तैयार की जा रही हैं। अगले दो माह के भीतर सेब व कीवी की करीब 700 से 800 पौध तैयार की जाएगी। जिसे जनपद के किसान व बागवानों को वितरित की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!