उत्तरकाशी : आपदा मे जुटे कर्नल के कमांडो बदलेंगे गंगोत्री का भविष्य ?

Share Now

कहते है कि अपनों के साथ खुसी का मौका भले ही शेयर न हो, पर दुख के समय जरूर पास जाकर उसका हौंसला जरूर  बढ़ाना चाहिए | उत्तरकाशी की  आपदा ने सिखाया है कि लोग इसे भूलते नहीं है और समय आने पर इस उधार को किसी न किसी रूप मे सूद सहित लौटा भी देते है | आपदा घटित होने के बाद अब तक की परम्पराओ से हटकर यूथ फ़ाउंडेशन एक नयी इबाबदत लिखने जा रही है |

उत्तरकाशी मे आपदा घटित होने की सूचना मिलते ही यूथ फ़ाउंडेशन के युवा किसी प्रशिक्षित कमांडो की तरह घटना स्थल की तरफ रवाना हुए और राहत बचाव के साथ लोगो के घरो की सफाई और मलवा हटाने के काम मे जुट गए | यूथ फ़ाउंडेशन का नाम सेवा निवृत्त कर्नल अजय कोठियाल से जुड़ा होने से इसे अब आम आदमी पार्टी की नजर से भले ही देखा जा रहा हो,  किन्तु कोई निर्णय लेने से पहले पुराने दौर मे जिला अस्पताल मे मरीजो की मदद, रामलीला मैदान मे सफाई अभियान और धार्मिक पर्व पर मंदिर मे व्यवस्था कार्य मे भी इन युवाओ की भूमिका पर नजर दौड़ना जरूरी है |  

उत्तरकाशी के मांडो, सिरोर में बादल फटने से लोगों को राहत कार्य मे अपना सहयोग प्रदान करते हुए यूथ फाउंडेशन के युवा  बादल फटने की रात से ही लोगों को रेस्क्यू करने के बाद , कल और आज मांडो में आपदा पीड़ितों के घरों से मलवा हटाने के कार्य मे जी जान से जुट गए है |

यूथ फाउंडेशन के संस्थापक कर्नल अजय कोठियाल ने सैन्य अभियान कि तर्ज पर फुर्ती दिखाते जिस तरह यूथ फ़ाउंडेशन कि टीम को एक्टिवेट किया है वह राजनीति मे अब तक का एक नया प्रयोग माना जा रहा है | आपदा के दौरान पीड़ित परिवार को धाडस बंधाना, जीने मे खुसी के जाम और मौत पर घाट पर जाना अब तक की राजनीति का हिस्सा  रहा है, जो अब बदलता दिखाई दे रहा है  | यवाओ की टीम अपने अंदाज मे आपदा पीड़ितो के बीच किसी अपने के जैसे मदद मे जुट जाती है यह परिकल्पना ही काबिले तारीफ है |

मांडो, सिरोर, मुस्टिकसौड़ और कंकराड़ी में बादल फटने से जान माल की हानि हुई है, कर्नल अजय कोठियाल ने कैम्प के नवजवान युवाओ का आह्वान किया कि इस आपदा के घड़ी में ग्राउंड 0 पर पहुँच कर जरूरतमंदों की मदद करे |

 सिरोर गांव में आज यूथ फाउंडेशन के युवाओं द्वारा गांव के रास्ते को ठीक किया जा रहा है जो कि आपदा में छतिग्रस्त हो चुकी थी|  यूथ फाउंडेशन में युवाओ को सेना भर्ती पूर्व प्रशिक्षण दिया जाता है जिसमे अधिकांश युवा सेना में सफल होते है। इसके अलावा समय समय पर सामाजिक कार्यो, मेडिकल कैम्प, जिला अस्पताल और धार्मिक पर्व पर मंदिरो मे स्वयं सेवक की भूमिका मे यूथ फ़ाउंडेशन के युवा नजर आते है | इस समय कैम्प के इंस्ट्रक्टर चंद्र मोहन , विशाल कलूड़ा, ममता रावत, रोशनी रावत, मुकेश नेगी सहित 30 युवाओ की टीम धरातल पर आपदा पीड़ितों की मदद कर रही है।।

राजनीति के पंडित इसमे  नफा नुकसान का आंकलन  जरूर करे पर युवाओ मे इस कदर जोश पैदा कर अंजान लोगो के बीच सहयोग करने की भावना सदैव जीवित रहनी चाहिए आपके तर्क से वह भावना मरनी नहीं चाहिए बस इतना सी चाहत है|

किसी भी रण मे जीत के लिए अपनी लकीर बड़ी करे – दूसरों की लकीर काटकर छोटी दिखाना गुजरे दौर की पुरानी फेडेड तकनीकि है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!