उत्तरकाशी : दो वर्ष तक डीएम को नहीं – सीएम को दिखा पीड़ितो का दर्द ?

Share Now

उत्तरकाशी जिले मे वर्ष 2019 की आपदा के दो वर्ष बाद भी पीड़ितो की नहीं सुनी गयी अथवा इसे जरूऋ नहीं समझा गया , हालांकि इस दौरान प्रदेश मे मुख्यमंत्री बदलने का दौर का दौर चला, ऐसे मे अंतिम रूप से तय हुए प्रदेश के युवा  मुख्यमंत्री ने बदली हालात मे  राजनैतिक रूप से नाराज नेताओ को समायोजित करने के बाद जिले स्तर पर दो वर्षो से सुनवाई का इंतजार कर रहे सुदूर इलाको की सुनवाई के लिए डीएम उत्तरकाशी को निर्देशित किया,  साथ ही कड़े शब्दो मे निर्देश दिये कि तहसील स्तर की  समस्या का समाधान तहसील मे और जिले स्तर कि समस्या का समाधान जिला स्तर पर डीएम करना सुनिश्चित करेंगे किसी  भी सुरत मे जिले कि समस्या सीएम लेवेल पर पहुची तो इसे  संबन्धित डीएम के रिपोर्ट कार्ड मे दर्ज किया जाएगा

मोरी ब्लॉक  की बंगाण वैली  आराकोट में 2019 में आयी प्राकृतिक आपदा से प्रभावित गांवों का जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने शनिवार को गांव- गांव जाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनीं। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने माकुली गांव में रात्रि चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्या सुनीं। ग्रामीणों द्वारा माकुली में बाढ़ सुरक्षा के कार्य कराने,गांव में नाली निर्माण, रौधार तोक में विद्युत लाइन पहुंचाने,गांव में नेटवर्क कनेक्टिविटी देने, सड़क मार्ग का विस्तारीकरण करने सहित अनेक मूलभूत समस्याओं से अवगत कराया गया। वहीं तारादेवी पत्नी जोगेंद्र द्वारा आवसीय भवन में सड़क का मलबा आने से रोकथाम हेतु सुरक्षा दीवार लगाने व तिरछे हुए बिजली के पोल को सही कराने का अनुरोध किया गया।

     जिलाधिकारी ने ग्रामीणों को आश्वस्त करते हुए कहा कि माकुली गांव में बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य हेतु कार्यदायी संस्था सिचाई विभाग द्वारा 32 लाख का प्राकलन तैयार किया गया। जिसमें शीघ्र ही धनराशि जारी कर कार्य प्रारंभ कर लिया जाएगा। गांव में स्वच्छ भारत मिशन के अंर्तगत नाली निर्माण व मनरेगा के अंर्तगत रास्तों को शीघ्र ही दुरुस्त कर लिए जाएंगे। इस हेतु जिलाधिकारी ने खण्ड विकास अधिकारी को तत्काल अग्रिम कार्यवाही करने के निर्देश दिए। गांव में तिरछे हुए सभी विद्युत पोल को सही कराने के साथ ही तारादेवी के मकान के पास तत्काल सुरक्षा दीवार लगाने के निर्देश ईई लोनिनिवि व विद्युत को दिए। जिलाधिकारी ने ग्रामीणों को गांव में मोबाइल नेटवर्क कनेक्टिविटी के लिये शीघ्र ही टेलीकॉम सेवा प्रदाताओं से वार्ता कर सकारात्मक निर्णय के बाद अग्रिम कार्यवाही करने का भरोसा दिया।

   रात्रि चौपाल में एसडीएम पुरोला सोहन सैनी,एसीएमओ आरसी आर्य, ईई लोनिनिवि धीरेंद्र कुमार, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल, सहित अन्य  क्षेत्रीय अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!